top of page
Search

किस्मत और राहें

कौन कहता है कि किस्मत से ज्यादा तुम पा नहीं सकते यह किसने कहा कि जो लिखा है वह मिटा नहीं सकते संघर्ष के आगे तो दुनिया नतमस्तक है क्यूं तुम घनी अंधेरी रात में आशा के दिये जला नहीं सकते अर्जुन सी एकाग्रता गर पा ली तुमने तो क्यूं तुम उदास चेहरों पर मुस्कान ला नहीं सकते लोग हंसेंगे, नीचे भी गिराएंगे, कोशिश करेंगे हजार कर दढ निश्चय तुम अडिग रहना, ना सुनना अबकी बार ये तुमसे ना होगा, आज तक यह कोई नहीं कर पाया ऐसा सुनाएंगे कई कई बार तुम ढटटे रहना योद्धा बनके, बिना सोचे इस पार या उस पार वो वक्त भी आएगा जब मन में शंका के बादल मंडराएंगे दिल पर हाथ रख कर पूछना क्या पाया है जो गंवाएंगे फिर हिम्मत जुटा खड़े होकर बता देना दुनिया को क्यूं तुम पानी में आग लगा नहीं सकते हिम्मत और यकीन यह दो पहिये लगा के चल पड़ अपनी राह पर क्यूंकि वीर जवानों के हौसले ये लोग झुका नहीं सकते कर लाख कोशिशें हासिल कर वो मुकाम दिखा दो ज़माने को क्यूं तुम आसमान को जमीन पर ला नहीं सकते #fate






0 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


Post: Blog2_Post
bottom of page